Sat. Dec 14th, 2019

विधायक और सांसद पर उड़े कीचड़ में ही खिलेगा कमल ?

AJ डेस्क: झारखण्ड में होने वाले विधान सभा चुनाव के पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की खूब किरकिरी हो रही है। भाजपा येन केन प्रकरेण 65+ सीट पर कब्जा जमाने की जुगत तो भिड़ा रहा है लेकिन ठीक इसी दौर में पार्टी के साथ कुछ ऐसा हो भी रहा है कि बुद्धिजीवी वर्ग इस अनुशासित एवम सैद्धांतिक कहे जाने वाली पार्टी की नीति के बारे में सोचने पर विवश होता जा रहा है।

 

 

 

 

भाजपा के दिग्गज नेताओं ने झारखण्ड का दौरा शुरू कर यहां चुनाव का शंखनाद कर डाला है। पंचायत से प्रमंडल स्तर तक पार्टी अपने कार्यकर्ताओं को एक्टिव करने का काम शुरू कर चुकी है। लेकिन 65 प्लस के चक्कर में भाजपा कुछ ऐसा भी कदम उठा रही है जिससे पार्टी की खूब किरकिरी हो रही है। अब भाजपा के गढ़ धनबाद कोयलांचल के बाघमारा में जो हुआ वह भाजपा के लिए “कोढ़ में खाज” का काम करेगा। भाजपा के दो दिग्गज नेताओं पर यौन उत्पीड़न का केस दर्ज होने के बाद इसका असर बाघमारा तक नही बल्कि झारखण्ड की राजनीति पर भी पड़ने की संभावना से इंकार नही किया जा सकता।

 

 

 

 

यूँ तो विधायक ढुल्लू और पूर्व सांसद रविंद्र पांडे पर क्षेत्र की दो अलग अलग महिलाएं पिछले वर्ष ही गम्भीर आरोप लगाई थीं। उस वक्त भी कोयलांचल में यह मामला खूब उछला था। विधायक ढुल्लू महतो को राजधानी रांची के राजनैतिक गलियारे का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होने की बात भी यहां कही जाती है। भाजपा नेत्री कमला कुमारी की फरियाद किसी ने नही सुनी। अंततः कमला कुमारी रांची हाई कोर्ट के शरण में जा पहुंचती है और न्याय का फरियाद लगाती है। हाई कोर्ट ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए धनबाद पुलिस प्रशासन से केस दर्ज करने और साथ में अब तक केस क्यों नही होने का कारण बताने का आदेश जारी कर दिया। न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद राजनीतिक पहुंच बौनी साबित हो गयी और विधायक ढुल्लू महतो यौन उत्पीड़न के आरोप में घिर गए। पिछले वर्ष ही बाघमारा क्षेत्र में विधायक ढुल्लू और सांसद रविंद्र पांडे के बीच सार्वजनिक रूप से जिस कदर जंग छिड़ा था, यह सभी जानते हैं। विधायक ढुल्लू पर जब कमला ने आरोप लगाया तो 72 घण्टे में ही सांसद रविंद्र पांडे भी इस आरोप के घेरे में आ गए। अब जब हाई कोर्ट ने महिला के आवेदन पर केस दर्ज करने का आदेश दे ही दिया तो धनबाद पुलिस ने दोनों घोर विरोधी ढुल्लू और रविंद्र पर केस दर्ज कर दिया।

 

 

 

 

इसके पहले धनबाद में मैनेजर राय को भाजपा में शामिल कराया जाता है।भाजपा कहती है कि उद्योगपति, समाज सेवी मैनेजर राय के शामिल होने से संगठन और भी मजबूत होगा। भले ही भाजपा के द्वारा जो भी दलील दी जाए लेकिन कोयलांचल का हर शख्स मैनेजर की छवि, कृत्य से वाकिफ है। और अगले चुनाव में इसका साइड इफेक्ट भी नजर आना तय है।

 

 

 

 

अभी हाल ही में रांची भाजपा कार्यालय में बड़े ही ताम झाम के साथ झामुमो के पूर्व नेता तथा सुचित्रा मिश्रा हत्या कांड के अभियुक्त शशि भूषण मेहता को पार्टी में शामिल कराया गया।

 

 

अभी यह चर्चा थमा भी नही था कि भाजपा के दबंग विधायक ढुल्लू महतो और पूर्व सांसद रविंद्र पांडे प्रकरण से भाजपा की किरकिरी तय है। इसी 9 अक्टूबर को विधायक ढुल्लू के एक केस का फैसला भी आने वाला है।भाजपा के भीतर चल रही इन घटनाक्रम को विपक्षी पार्टियां कितना चुनावी हथियार बना पाएंगी, यह तो नही मालूम लेकिन सभ्रांत समाज अब भाजपा के इस चेहरा के बारे में सोचने पर अवश्य विवश हो चुकी है।

 

 

 

 

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए अभी अपने फेसबुक पेज के ऊपर SEARCH में जाए और TYPE करें analjyoti.com और LIKE का बटन दबाए…

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Article पसंद आया तो इसे अभी शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »