Fri. Apr 3rd, 2020

दिल्ली: पूर्वांचल के वोटरों ने भाजपा सहित RJD, LJP और JD(U) को नकारा

AJ डेस्क: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सहित बिहार की सभी राजनीतिक पार्टियों की भी दिल्ली विधानसभा चुनावों में करारी हार हुई। मंगलवार को चुनाव परिणाम घोषित कर दिए गए। चुनाव के मद्देनजर लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और जनता दल-युनाइटेड (जदयू) ने तीनों सीटों पर भाजपा के साथ गठबंधन किया था, जहां उनका सूपड़ा साफ हो गया।

 

 

दिल्ली में 25 विधानसभा सीटें ऐसी हैं, जिन्हें प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोग प्रभावित करते हैं। इन सभी क्षेत्रों में पूर्वाचल के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने इसी बात को ध्यान में रखते हुए टिकट वितरण किए थे। कांग्रेस ने भी अपने सहयोगियों के साथ इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर दिल्ली के दंगल में प्रत्याशी उतारे थे। भाजपा ने अपने सहयोगी दल जदयू को दो और लोजपा को एक सीट दी थी। वहीं कांग्रेस ने अपनी सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को चार सीटों पर उम्मीदवार उतारने दिए थे। हालांकि, इस बार दिल्ली के दंगल में उतरे बिहार के तीनों राजनीतिक दलों को करारी हार का सामना करना पड़ा।

 

 

संगम विहार से जदयू ने शिवचरण लाल गुप्ता को टिकट दिया था। वह 32 हजार वोट के साथ दूसरे पायदान पर रहे, इस सीट पर आम आदमी पार्टी (आप) उम्मीदवार दिनेश मोहनिया को जीत मिली। दूसरी ओर, बुराड़ी विधानसभा सीट से जदयू ने शैलेंद्र कुमार को टिकट दिया था, जिन्हें कुल 40 हजार 244 मत मिले। यहां भी आप के संजीव झा को 1 लाख 10 हजार मतों से जीत मिली।

 

 

सीमापुरी विधानसभा सीट से लोजपा ने संत लाल को उम्मीदवार बनाया था। वह इस सीट पर 32 हजार वोट के साथ दूसरे नंबर पर रहे। इस सीट पर आप के राजेंद्र पाल गौतम को 88 हजार वोट मिले।

 

 

वहीं, कांग्रेस की सहयोगी राजद की हालत सबसे अधिक खराब रही। किराड़ी विधानसभा सीट से पार्टी ने मोहम्मद रियाजुद्दीन खान को टिकट दिया था, उन्हें सिर्फ 255 वोट मिले हैं। यहां भाजपा के अनिल झा को 80 हजार मत मिले। इस सीट पर भी आप ने जीत हासिल की। आम आदमी पार्टी के रितुराज गोविंद को 86 हजार मत मिले।

 

 

उत्तम नगर विधानसभा सीट पर राजद उम्मीदवार शक्ति कुमार बिश्नोई को सिर्फ 340 वोट मिले। आप के नरेश बालियान 91 हजार 315 वोट के साथ पहले और भाजपा के कृष्ण गहलोत 73 हजार 633 मत के दूसरे स्थान पर रहे, जबकि पालम विधानसभा चुनाव में राजद के निरमल कुमार सिंह को महज 486 मत मिले। इस सीट पर नोटा को राजद उम्मीदवार से ज्यादा 737 मत मिले।

 

 

आप की भावना गौर इस सीट से विजय रहीं. भावना को 82 हजार 596 मत मिले, जबकि भाजपा के विजय पंडित को 53 हजार 848 मिले। बुराड़ी विधानसभा सीट से राजद के प्रमोद कुमार त्यागी को सिर्फ 2 हजार 45 वोट मिले।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Article पसंद आया तो इसे अभी शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »